राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण से जुड़े रोचक तथ्य

By: admin

January 20, 2024

1 minute read

...

राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण से जुड़े रोचक तथ्य

आयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण चल रहा है और आगामी 22 जनवरी को इस मंदिर में रामलला (Ramlala) की प्राण प्रतिष्ठा कर दी जाएगी। सनातन परंपरा की मान्यताओं के अनुसार, अयोध्या भगवान विष्णु (Lord Vishnu) के अवतार भगवान श्रीराम का जन्मस्थान है। भगवान राम के जनस्थान पर मंदिर का निर्माण श्री जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा करवाया जा रहा है।

राम मंदिर से जुड़े रोचक तथ्य (Interesting facts related to Ram temple)

1. राम मंदिर का डिजाइन अहमदाबाद के सोमपुरा परिवार द्वारा तैयार किया गया है। इस परिवार का भारत में 100 मंदिरों के डिजाइन में योगदान है। मंदिर के मुख्य वास्तुकार चंद्रकांत सोमपुरा और उनके दो बेटे निखिल सोमपुरा और आशीष सोमपुरा हैं। यह मंदिर नागर शैली की वास्तुकला में बनाया जा रहा है जो उत्तर भारत में मंदिर बनाए जाने की प्रमुख वास्तुकला है। यह एक अक्षकोणीय मंदिर है, जिसमें भगवान राम के बालरूप की मूर्ति स्थापित की जाएगी। मंदिर परिसर में संत निवास, शोध केंद्र, कर्मचारियों का आवास, भोजनालय आदि की व्यवस्था होगी।

ये भी पढ़े राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के लिए पूजा की योजना

2. भगवान राम का यह मंदिर 235 फीट चौड़ा, 360 फीट लंबा और 161 फीट ऊंचा होगा। निर्माण के बाद यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा मंदिर होगा। जिसमें एक यति निवास, संग्रहालय और अन्य सुविधाएं उपलब्ध होगी। यह मंदिर इतना भव्य होगा कि दूर से ही इसकी झलक देखी जा सकेगी। नवनिर्मित राम मंदिर मंदिर तीन मंजिल का होगा। मंदिर में 5 आकर्षक मंडप होंगे, इनमें नृत्य मंडप, रंग मंडप, सभा मंडप, प्रार्थना मंडप, कीर्तन मंडप शामिल हैं। साथ ही प्रवेश के लिए 5 दरवाजे होंगे।

3. मंदिर निर्माण आधिकारिक तौर पर 5 अगस्त 2020 को आधारशिला के समारोह के बाद फिर से शुरू हुआ। इस समारोह के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) द्वारा मंदिर का भूमिपूजन और अनुष्ठान किया गया था।

4. मंदिर का निर्माण प्राचीन पद्धति से किया गया है। जिसमें लोहे (Iron) का इस्तेमाल नहीं किया गया है। मंदिर निर्माण के पहले 60 मीटर गहराई तक मिट्टी की जांच की गई है। मंदिर में पत्थर के फ्रेम और लकड़ी के दरवाजों का इस्तेमाल किया गया है। राम मंदिर का निर्माण पूरी तरह से पत्थरों द्वारा किया गया है। हर एक पत्थर पर भगवान राम का नाम अंकित किया गया है। ये सभी गुलाबी बलुआ पत्थर हैं जो बंसी पहाड़पुर, भरतपुर (राजस्थान) से मंगाए गए हैं। मंदिर की दीवारों पर देवी देवताओं की मूर्तियां उकेरी गई हैं।

5. राम मंदिर का जलाभिषेक 155 से ज्यादा नदियों के पवित्र जल से किया जाएगा। मंदिर निर्माण के लिए विभिन्न हिंदू मंदिरों, गुरुद्वारों और जैन मंदिरों से मिट्टी भी भेजी गई। इनमें से पाकिस्तान में स्थित शारदा पीठ भी शामिल है।

6. मंदिर निर्माण के लिए पूरे भारत के लोगों ने सहयोग किया है। कई राज्यों से राम भक्तों द्वारा मंदिर निर्माण के लिए सोने और चांदी की ईंटें भेजी गई हैं। साथ ही आज भी इस मंदिर के निर्माण के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को दान मिल रहा है।